Pyar ka naam Radha mohan 9 August 2023 written update

Written update of Radha mohan

Radha mohan written episode 9 August 2023  आज का एपिसोड स्टार्ट होता है जहां पर राधा को वापस जेल में डाल दिया जाता है क्योंकि उसकी बेल याचिका रद हो चुकी होती है। अब शांति राधा से पूछती है कि क्या हुआ, तुम वापस क्यों आ तो मैं बेल नहीं मिलेगा। अब राधा शांति से बोलती है। दामनी जी हमारे परिवार के साथ बहुत बुरा खेल खेल रही है। जितना प्रेम हम अपने परिवार से करते हैं, उसी प्रेम को शस्त्र बनाकर हम पर ही चलवा दिया।

इसीलिए कोर्ट ने हमें जमानत देने से मना कर दिया। यहां पर राधा को यह बताना चाहिए कि जो जमानत उसकी रद्द हुई है उसके खुद के चक्कर में हुई है। अब राधा शांति को यह बताती है कि उन्होंने यह साबित कर दिया कि हम गुनगुन को नुकसान पहुंचा सकते हैं। माजी हम कैसे गुनगुन को नुकसान पहुंचाएंगे। बेटी है वह हमारी शांति राधा को थोड़ी हिम्मत बनाती है। वह कहती कि तुम बहुत जल्दी जेल से बाहर जाओगी। दिल कह रहा है मेरा।

Pyar ka pehla naam Radha mohan 9 August 2023 written update

Radha mohan written episode 9th August 2023

राधा बोलती है कि हम अपने परिवार के लिए, अपनी गुनगुन के लिए, अपने मोहन जी के लिए प्राण तक दे सकते हैं। अब राधा रोते हुए बोलती। पर दुख तो हमें बस एक बात का है कि आज दामिनी जीजी की वजह से हमारी गुनगुन हमसे नफरत करती है। हमारी गुनगुन हमारे लिए दूसरों से लड़ लेती थी और आज वही गुनगुन हमसे नफरत करती है। वह हमसे इतनी नफरत करती है कि हमारी तरफ मुड़कर भी नहीं

देख रही थी। राधा को ऐसे रोते देख कर के शांति उसे अपने गले लगा लेती है। शांति राधा से बोलती है। हम समझ सकते हैं कि तुम पर क्या बीत रही है। अरे बच्ची अपने मां बाप से नहीं रूठे तो कैसे उठेंगे? देखना उसे भी एक दिन समझ में आ जाएगा कि तुम उससे कितना प्यार करती हो। अब राधा कहती है हम तो अपने बांके बिहारी जी से बस एक ही प्रार्थना करेंगे कि हमारी गुनगुन हमेशा सुखी रहे, फिर चाहे हम उनके साथ रहें या फिर ना रहें।

अब शांति राधा को गले लगाकर दिलासा देते है। वो कहती बेटी सब ठीक हो जाएगा। इधर घर पर गुनगुन राधा की फोटो को देख रही होती है और गुनगुन वो पल याद कर रही होती है जब मोहन उसे मारने के लिए हाथ उठाता है और तभी राधा वहां पर उसके पास आ जाती है उसे बचाने के लिए यहां तक कि गुनगुन के लिए मोहन तक से लड़ गई थी। पिछली बातें याद करके गुनगुन भी रोने लग जाती है। अब तुलसी गुनगुन से कहती है गुनगुन, अपने दिल पर हाथ रख करके एक बार पूछो, क्या तुम्हें लगता है कि राधा ऐसा कुछ कर सकती है?

Radha mohan 9 aug 2023

Written update Radha mohan

तुमसे झूठ बोला गया है। राधा कभी ऐसा कोई काम नहीं कर सकती। जिससे तुम्हें या मुझे कोई नुकसान पहुंचे। प्लीज एक बार अपने दिल की आवाज सुन लो। अब गुनगुन बोलती है। सब लोग बोल रहे थे कि तुमने मेरी मम्मा को मारा है और उन लेटर्स में भी वही लिखा हुआ था और अगर राधा इतनी ही बुरी है तो उसने आज मेरे लिए पापा से फाइट क्यों की? और अगर राधा इतनी ही बैड है तो केतकी बुआ ने राधा की साइड क्यों ली?

और अगर राधा इतनी ही बैड है तो आज वह मेरे लिए क्यों रोई? और अगर राधा इतनी ही बैड है तो मैं आज उसे क्यों याद कर रही हूं। तभी तुलसी को वहां पर एक साया दिखाई देता है और तुलसी उस साय को देखकर घबरा जाती है और कोई गुनगुन की तरफ बड़ा होता है। तुलसी गुनगुन को अलर्ट करने की कोशिश करती है लेकिन उसकी आवाज गुनगुन नहीं सुन पा रही है और तभी कोई गुनगुन के मुंह पर हाथ रख देता है और वह आदमी गुनगुन को उठाने की कोशिश कर रहा होता है।

तभी तुलसी वहां पर आ जाती है लेकिन वह उस आदमी को छू नहीं पाती है। अब वह आदमी गुनगुन का मुंह दबाकर उसे अपने साथ उठाकर ले जाता है और तुलसी घरवालों का नाम लेकर चीख रही होती है ताकि कोई उसकी आवाज सुन करके वहां पर गुनगुन को बचाने आ जाए। लेकिन वे बार बार भूल जाती है की वो भूत है उसकी आवाज कोई नहीं सुन पाएगा।

इधर वह आदमी गुनगुन को खुफिया अड्डे पर लेकर आ जाता है, लेकिन गुनगुन उस आदमी को देखने के बाद एकदम शांत हो जाती है क्योंकि वह कोई और नहीं मोहन होता है। तुलसी इसीलिए उस आदमी को छू नहीं पा रही होती, क्योंकि वह मोहन होता है। अब गुनगुन, मोहन को देख करके बोलती है,

Radha mohan written updates

Pyar ka pehla naam Radha mohan written update

पापा, आपने ऐसा क्यों किया? बताए, मैं कितना डर गई थी। अब मोहन उसे शांत रहने के लिए इशारा करता है। मोहन गुनगुन से कहता है कि सौरी, मुझे ना तुमसे बात करनी थी, ना मैं घर पर बात कर सकता था ना कहीं और। इसलिए मुझे तुम्हे यहां लेकर आना पड़ा। अब गुनगुन पूछती हैं क्यों? तो मोहन है बोलता क्यों मतलब मोहन बोलता है ताकि किसी को यह पता न चले कि मैं भी तुम्हारी राधा के साथ हूं।

अब गुनगुन हैरान होकर पूछती है इसका मतलब अब मोहन बोलता है। इसका मतलब यह है कि मैं राधा से नफरत करने की सिर्फ एक्टिंग कर रहा था। अब गुनगुन पूछती है तुम उसके साथ क्यों थे? अब मोहन गुनगुन को समझाता है। वह कहता है कि देखो लाइफ में जो दिखता है, वह सब कुछ सच नहीं होता है। मोहन आगे बोलता है, कभी कभी हमें अपनी आंखों पर नहीं, दिल पर भरोसा करना चाहिए।

मोहन आगे बोलता है, गुनगुन, कुछ लोग हमारी लाइफ में इसलिए आते हैं, क्योंकि वह हमारी लाइफ को बेटर कर सके। राधा ने भी वही किया है। मोहन गुनगुन से बोलता है, पहले तुम मुझे यह बताओ कि तुम हमेशा मुझसे पहले नाराज रहते थे ना?

मैं हमेशा तुम्हें डांटता था। यह सबकुछ किसने बदला? राधा ने किसके कहने पर तुमने मुझे पापा बुलाया? अब दोनों पुरानी बातें याद करते जब उसने पहली बार मोहन को पापा बुलाया था और वह भी राधा के कहने पर मोहन मोहन से बोलता है, राधा के कहने पर ही तुमने मुझे पापा बुलाया था ना? और आज भी जब मैं तुम्हें डांट रहा था तो रोकने कौन आया? राधा आई थी ना? देखा नहीं तुमने तुम्हें बचाने के लिए कैसे लड़ पड़ी? वो मुझसे मोहन गुनगुन से बोलता है जो लोग बुरे होते हैं,

Radha mohan written

Radha mohan written updates

जो मर्डरर होते हैं, उनका दिल इतना साफ नहीं होता है। अरे क्या कुछ नहीं किया राधा ने हमारे लिए अपनी जान तक खतरे में डाल चुकी है। अगर आज हमारे घर में खुशियां आना तो वह सिर्फ राधा की वजह से। अब तुलसी बोलती है पापा बिल्कुल ठीक कह रहे हैं। मोहन अग्रवाल भाषा बोलते हैं, लेकिन पापा वह लेटर।

मोहन बोलता तो मैं कैसे समझाऊं? की प्रॉब्लम होती है। वह जो देखते हैं, वही उसे सच समझ लेते हैं। हम बड़े जैसे जैसे बड़े होते जाते हैं, वैसे वैसे हम अपने दिल की आवाज सुनना बंद कर देते हैं। लेकिन बच्चे अपने दिल की आवाज सुनते हैं। अभी एक पल के लिए लेटस को भूल जाओ। भूल जाओ कि तुमने जो पढ़ा, जो देखा, बस एक बार दिल पर हाथ रख के सोचो कि क्या राधा ऐसा कुछ कर सकती है? अब गुनगुन सोच में पड़ जाती है। अब मोहन कहता है गुनगुन तुम्हें कैसे समझाऊं?

मोहन गुनगुन से बोलता है गुनगुन, अपना हाथ अपने दिल पर रखो। गुनगुन ऐसा ही करती है। मोहन गुनगुन से कहता है कि अब राधा का नाम लो।  बोलती है नो। तुलसी बोलती है गुनगुन प्लीज। मोहन गुनगुन से बोलता है गुनगुन प्लीज। गुनगुन दुबारा से मना कर देती है। मोहन कहता है कि एक बार मेरे लिए कर दो। अब गुनगुन दोबारा बोलती है नहीं। मोहन बोलता है अपने लिए कर लो। गुनगुन फिर मना कर देती है। तुलसी रोते हुए बोलते प्लीज गुनगुन, एक बार मोहन बोलता है अपनी मां के लिए। और अब उन्होंने अपने दिल पर हाथ रख कर के बोलती है। रामा और गुनगुन को सारी पुरानी बातें याद आने लगती है राधा की।

अब गुनगुन रोते हुए बोलती है यह मैंने रामा के साथ क्या कर दिया? मैंने उस पर ट्रस्ट क्यों नहीं किया? राधा को कितना? गलत बोला मैंने।  मनमोहन उसे बोलते है उसे कितना बुरा लग रहा होगा ना? अब गुनगुन बोलती है आयम वैरी बैड। पर अब तो बांकेबिहारीजी भी मुझसे गुस्सा हो जाएंगे। मोहन गुनगुन को समझाता है। वो कहता है ऐसा कुछ नहीं होगा। गलतियां सबसे होती हैं। तुम्हें याद नहीं कि मैंने कई बार तो खुद राधा पर भरोसा नहीं किया है। गुनगुन मोहन से बोलती है कि मुझे राधा से बात करनी है पापा मुझे उससे सॉरी बोलना है।

तब मैंने उसके बारे में कितना गलत गलत बोला और वो कितनी दुखी हो गई होगी। मुझे उससे बात करना है पापा प्लीज। अब मोहन बोलता है गुनगुन इस वक्त हम कैसे बात करेंगे उसे। उससे बात करना पॉसिबल नहीं है। अब गुनगुन रिक्वेस्ट करने लग जाती है। पापा प्लीज मुझे उससे बात करनी है। पापा एक बार करा दीजिए प्लीज। मोहान बोलता है अच्छा ठीक है मैं कोशिश करता हूं और मोहन उस कांस्टेबल को फोन लगा देता है। कांस्टेबल वीडियो कॉल करके परेशान हो जाती है। अब वो इधर उधर देख करके कॉल उठा लेती है।

अब कांस्टेबल बोलती क्या मोहन जी आप भी शेखर सर तक तो ठीक था पर अब आप भी कॉल करने लगे। आप बात को समझने की कोशिश कीजिये मेरी नौकरी तक जा सकती है। मोहन बोलता है मैडम ये समझने की कोशिश कीजिए। राधा की बेटी उससे बात करना चाहती है। कांस्टेबल बोलते नहीं नहीं नहीं, मैं इतना बड़ा रिस्क नहीं ले सकती। गुनगुन मोहन के हाथ से फोन ले लेती और वो

बोलती आंटी प्लीज मेरी मां से बात करा दीजिए। एक बार कांस्टेबल बोलती सौरी बेटा, मैं ऐसा नहीं कर पाऊंगी। अब गुनगुन बोलती है, देखिए आपकी तो कोई बेटी होगी ना और अगर आपको उससे कोई बात करने से मना कर दे तो उसे कैसा लगेगा? आंटी बुरा लगेगा ना आप प्लीज एक बार बात कर लीजिए रामा से मैंने अपनी रामा के साथ बहुत गलत किया है। मैंने उसे बहुत पेन दिया है। आंटी प्लीज एक बार मेरी बात करा दीजिए अगर वो बहुत बार रिक्वेस्ट करती है कांस्टेबल से और वो कांस्टेबल पिघल जाती और कहती है ठीक है बेटा मैं बात करती हूं।

इधर राधा अपने सेल में रो रही होती है। तभी राधा के कान में गुनगुन की आवाज आ जाती है। अब राधा बोलती है ये तो हमारी गुनगुन की आवाज है। तभी कांस्टेबल आकर के राधा को फोन देती है और कहते हैं धीरे से बात करना और अब राधा गुनगुन को फोन में देखती है जिसके बाद वो दोबारा से रोने लग जाती है। इधर उनको भी दुख हो रहा होता राधा को इस हाल में देख करके और अब राधा बैठ कर रोने लग जाती है।

शांति की भी नींद खुल जाती राधा के रोने से। और अब राधा खुश होते हुए बोलती है गुनगुन। और अब गुनगुन राधा को सॉरी बोलती है। वो कहती है सॉरी रामा आयम सॉरी गुनगुन बोलती एम सॉरी रामा। मैंने तुम पर ट्रस्ट न करके उन लेटर पर ट्रस्ट किया और अब राधा बोलती है कि कोई बात नहीं बेटा होता है। अब गुनगुन बोलती है लेकिन मैंने सोचा भी कैसे कि तुमने मेरी मां को मारा है और पापा ने मुझे रियलाइज कराया कि मैं कितनी गलत थी।

अब राधा मोहन से कहती है मोहन जी आपने आज तक हमारे लिए बहुत कुछ किया है पर आज जो किया हमारी गुनगुन को हमारे पास जो ले आए। इस अहसान को तो हम अपने प्राण दे करके भी नहीं चुका सकते। अब राधा कहती है और गुनगुन बेटा इसमें तो आपकी बिल्कुल भी कोई गलती नहीं है। जो अच्छे लोग होते हैं ना भगवान जी भी उन्हीं की परीक्षा लेते हैं और हम तो आपके लिए बहुत खुश हैं कि आपने इतनी जटिल परीक्षा को इतनी आसानी से पास कर लिया।

अब बोलती है रामा जब मैंने वो लेटर देखे तो मुझे तो यही लगा कि वो मेरी मम्मा ने लिखे हैं। पर वो लेटर अगर मेरी मम्मा ने नही लिखा, हैं। राधा बोलती है गुनगुन इतने समझदार हैं। बिना बोले ही बहुत सारी बातें समझ जाती हैं। अब मोहन बोलता तो यह सब कुछ क्यों नहीं समझ पाई। अब मोहन गर्व से बोलता है, सोचो कि यह सबकुछ कौन कर सकता है? और गुनगुन थोड़ा अपने दिमाग पर जोर डालती है और थोड़ी देर सोचने के बाद उसके मुंह से निकलता है दामिनी।  अब तुलसी  बोलती है तुम बिल्कुल सही सोच रही हो।

दामिनी के अलावा यह काम और कोई कर ही नहीं सकता। एक वही है जो तुम्हें तुम्हारे पापा को राधा से दूर करना चाहती है। इसका मतलब तुम दामिनी की वजह से जेल में हो और यह सब दामिनी ने किया है। अब उन्हें गुस्सा आता है। वो कहती है दामिनी को तो मैं अब राधा कहती है गुनगुन शांत हो जाइए। देखो गुनगुन। भगवद्गीता में लिखा है क्रोध से बुद्धि का नाश हो सकता है और यही बात राधा थोड़ी देर

पहले भूल गई थी जब उसने अपनी जबान पर लात मारी थी और अब यहां पर बच्चे को ज्ञान दे रही है और इस वक्त मैं अपनी बुद्धि को नाश नहीं, अपने ध्यान से काम लेना होगा। इस वक्त हम आपके साथ नहीं हैं, इसलिए आपको अपना और अपने पापा का ध्यान रखना होगा और आप ऐसा कोई भी कदम नहीं उठाएंगे जिससे दामिनी जी को यह शक हो जाए कि आप हमारे साथ हैं। इसलिए क्रोध से नहीं बुद्धि से काम लेना होगा और मोहन गुनगुन से फोन ले करके बोलता है कि अब ना दामिनी का अंत होकर रहेगा।

Radha mohan upcoming story देखने को मिलेगा की दामिनी का सच बाहर आता है या नही।

और Pyar ka naam Radha Mohan written update यहीं खत्म हो जाता है।

बस यहीं था Written update of Radha mohan 9 August 2023

जुड़े रहिये और Pyar ka pehla naam Radha mohan written updates के बारे में जान ने के लिए।

अगर आप radha mohan 9 august 2023 के अलावा Anupama serial update देखते है तो उसका आज का एपीसोड का लिंक दिया हुआ है।

Last Anupama written Updates

Anupama 9 August 2023 written update

Anupama 8 August 2023 written update full Episode

Anupama 8 August 2023 Written episode

Thanks for reading Radha Mohan written episode, Radha mohan serial on indianserialtoday.com

Leave a Comment