Pyar ka naam Radha mohan written update 1 Aug 2023

Written update of Radha mohan

Radha mohan written episode 1 aug 2023  आज का एपिसोड स्टार्ट होता है जहां पर राधा मोहन दोनों जेल में होते हैं और राधा मोहन के पैर छूती है। मोहन राधा से कहता है कि अरे यार मैं तुम्हारा पति हूं भगवान थोडी है जो तुम मेरे पैर छू रही हो। इस पर राधा मोहन से कहते हैं कि मोहन जी आप हमारे लिए भगवान हैं।

May you like:

Pyaar ka pehla naam Radha mohan 31 July 2023 written update

Pyaar ka pehla naam Radha mohan 30 July 2023 written update full Episode

मोहन राधा से कहता है कि राधा तुमने मुझे इतना प्यार किया, लेकिन बदले में मैंने तुम्हें क्या दिया? तुमने हमेशा मेरा भला चाहा, लेकिन बदले में मैंने तुम्हारे साथ हमेशा बुरा किया। तुम मेरी परेशानी को अपनी परेशानी बना लेती थी, लेकिन मैं तुम्हें अपनी परेशानी समझता रहा। अब राधा बोलते नहीं मोहन जी, ऐसा नहीं है।

Pyar ka pehla naam Radha mohan 1 Aug 2023 written updateRadha mohan written episode 1 aug 2023

शादी का वचन लेने के बाद मैंने तुम्हें कितना परेशान किया। अब मोहन सोचता है कि उसने कितना परेशान किया राधा को। मोहन बोलता है, बहुत गलत किया है राधा मैंने तुम्हारे साथ अब राधा बोलती है मोहन जी, आपके दिए हुए हर दुख में ना हमें सुख मिला है। अगर आप नहीं तो हम भी नहीं।

अब राधा की आंखों से आंसू आ जाते हैं। तब मोहन  बोलता है कि अरे रोना नहीं, अब हमारे खुशी के दिन आए हैं। अब रोने धोने के दिन चले गए। अब हमारी लवस्टोरी शुरू होगी। अब मोहन बोलता है बांके बिहारी जी के जन्म की इस जगह को साक्षी मानकर ना मैं शादी के सातों वचन वापस लेता हूं और

तो मैं प्यार के नये वचन देता हूं। अब मोहन कहता है पहला वचन चाहे कितनी भी दुख तकलीफ चाहे कितनी भी परेशानी क्यों ना आ जाए, मैं तुम्हारा हर हाल में साथ दूंगा। दूसरा वचन तुम हमेशा मुझसे आगे रहोगी जैसे बांके बिहारी जी को राधा रानी जी के नाम से जानते हैं ना, वैसे ही तुम्हारा नाम मेरे नाम से आगे रहेगा।

Radha mohan 1 aug 2023Written update Radha mohan

राधा मोहन वचन नंबर तीन कि मैं तुम्हारा जिंदगीभर साथ दूंगा। तुम पर भरोसा करूंगा। जिंदगी भरना हमारा अटूट विश्वास का रिश्ता रहेगा। वचन नंबर चार तुम्हारा सम्मान, मेरा सम्मान, तुम्हारा अपमान मेरा अपमान है। वचन नंबर पांच आज से तुम्हारे सारे दुख मेरे और मेरा सारा सुख तुम्हारा।

छठा वचन भले ही तुम मेरा पहला प्यार ना बन सकी, लेकिन तुम मेरा आखिरी प्यार जरूर बनोगी। मरते दम तक मैं सिर्फ और सिर्फ तुमसे प्यार करूंगा। और सातवां वचन चाहे जो भी हो जाए, मैं तुम्हारा साथ कभी नहीं छोडूंगा। मौत भी आजाये ना तो उसे हस्ते हस्ते गले लगा लूंगा।

मोहन की यह बात सुनकर कह राधा उसके मुंह पर हाथ रख देती है। अब राधा मोहन को कहते हैं कि चुप हैं और जो आखरी वचन इसको वापस लीजिए आपसे पहले हम जाएंगे। अब मोहन कहता वापस लीजिए वरना कैसे वापस लूं। अब राधा कहती है, जैसे दिया है वैसा वापस ले लीजिए। मोहन कहता है क्या वचन वापस लूं?

एक बार सुनो तो मेरे बात। अब राधा कहती है हमें कुछ नहीं सुनना है। बस आप वचन वापस ले लीजिए और आपसे पहले हम ही जाएंगे। और अगर आप वचन वापस नहीं लेंगे तो हम आपसे कभी बात नहीं करेंगे। अब मोहन कहता है एक बार सुन तो मेरी बात का वचन वापस लेना मुझे अब राधा कहती।

बचपन से लेकर आज तक मैं बांके बिहारी जी से आपका साथ मांगा है और आप हैं जो हमें छोड़ कर जाने की बात कर रहे हैं। राधा को रोते होते हुए देख के मोहन राधा को किस कर लेता है। और अब राधा शर्मा के मोहन के गले लग जाती है। मोहन राधा को बोलता आई लव यू राधा । मोहन राधा से बोलता राधा, मुझे पता है कि तुम्हें अजीब लग रहा होगा कि मैं तुमसे प्यार का इजहार यहां पर कर रहा हूं।

Radha mohan written updatesPyar ka pehla naam Radha mohan written update

पर मैं कह रहा हूं तुमसे कि जब भी हम इस पल के बारे में याद करेंगे ना तो तुम्हारे चेहरे पर एक मुस्कुराहट होगी। मोहन राधा से बोलता है मैं तुमसे वादा करता हूं बहुत जल्दी तुम्हें यहां से बाहर निकाल लूंगा। अब राधा गुनगुन के बारे में सोचती है कि वह तो उससे नफरत करने लगी। अब अब राधा मोहन से बोलती है मोहन जी गुनगुन। अब मोहन बोलता है तुम ना गुनगुन

की फिकर बिल्कुल मत करो। मैं हूं ना। मैं सबकुछ ठीक कर दूंगा। अब राधा की आंखों से आंसू आ जाते हैं। मोहन राधा के आंसू पोछते हुए कहता है राधा तुम रो मत में सबकुछ ठीक कर दूंगा। अब राधा मोहन से कहती है मोहन जी आप गुनगुन को डांटना मत, उन पर चिल्लाएगा मत। छोटी है ना। तो जो देखा

वही सच मान लिया तो आप इस पर चिल्लाएगा मत। मोहन बोलता तुम चिंता मत करो। मैं हर चीज का ध्यान रखूंगा और घर में ना हर चीज को देख लूंगा में राधा से बोलता है। राधा, जब तुम घर आओगे ना तो तुम्हें गुनगुन का भी प्यार मिलेगा, परिवार का भी प्यार मिलेगा और मेरा प्यार तो तुम्हें क्या बताऊं, तुम्हें इस ससुराल से निकाल करके तुम्हारे असली ससुराल ले जाएंगे

और अब राधा मोहन दोबारा से गले लग जाते हैं। इधर घर पर कादम्बरी बोलती है हमने तो कभी कल्पना भी नहीं की थी कि राधा ऐसी निकलेगी। इतनी सी लड़की और इतना बड़ा अपराध। अब तुलसी चिल्लाकर बोलती नहीं राधा ने ऐसा कुछ भी नहीं किया है। अब अजीत बोलता है। हमें तो विश्वास ही नहीं हो रहा कि राधा ऐसा भी कुछ कर सकती है।

इतने दिनों से हमारे साथ रह रही थी, लेकिन पता ही नहीं चला कि उसने इतना बड़ा राज भी छुपा रखा है। अब राहुल बोलता है तो शुकर मनाओ क्यों की उस गवार राधा का सच सबके सामने जल्दी आ गया। न जाने कितने लोगों का मर्डर प्लान करके बैठी थी वो। मोहन भैया को पाने के चक्कर में जो भी उसके रास्ते में आता ना वो सबको मौत के घाट उतार देती।

वो तो अच्छा हुआ कि बच गए हम सब लोग। अब कादम्बरी बोलते हैं। हमारा तो दिमाग ही काम नहीं कर रहा है। किस पर भरोसा करें, किस पर ना करें। अब तुलसी बोलती है मां आप राधा पर भरोसा कीजिये आप जानती है ना कि राधा ऐसी नहीं है। अब केतकी कादम्बरी के लिए पानी लेकर आती है। बोलती है मां थोड़ा सा

पानी पी लो। कादंबरी पानी पीने के लिए मना कर देती है। वह कहती है कि नहीं केतकी हमारा मन नहीं कर रहा है। अब केतकी कादम्बरी से बोलती प्लीज रोइए मत ना मम्मा अब गुनगुन बोलती है राधा बहुत बुरी चीज, she is very bad। मैने तो उसे अपनी मम्मा समझा था पर उसने मेरी मम्मा को मारा है। आई हैट हर अब तुलसी बोलती गुनगुन मैं कैसे बताऊं तुम्हें वो सबकुछ मैंने नहीं लिखा। यह सब लोग राधा को फंसा रहे हैं।

Radha mohan writtenRadha mohan written updates

राधा ने कुछ नहीं किया है।  अब तुलसी की मां कादंबरी के पास आती और बोलती है कादम्बरी बहन, हमें माफ कर दीजिए। कभी कभी इंसान की आंखों में गलतफहमी का ऐसा चश्मा चढ़ जाता है कि वह सही और गलत में फर्क ही नहीं कर पाता। हमने आप लोगों के साथ बहुत गलत किया है। तुलसी की मौत का इल्जाम मोहन पर लगाते रहे हम।

हमने गुस्से और नफरत में न जाने क्या क्या कहा। क्या क्या किया हमने मोहन के साथ। पर हम नहीं जानते थे कि जिस लड़की को हम अपनी बेटी समझते हैं, वही गुनगुन की मां की कातिल निकलेगी। अब तुलसी बोलती है आप लोग यकीन क्यों नहीं मान रहे कि राधा ने कुछ नहीं किया है। अब  कादंबरी तुलसी की मां से बोलती आप अपने आप को इल्जाम क्यों दे रही बहनजी?

गलत फहमी का चश्मा सिर्फ आप पर ही नहीं, हम पर और हमारे पूरे परिवार पर भी चढ़ा था। जब इतने दिनों में हम उसे नहीं पहचान पाए तो आप उसका असली चेहरा कैसे देख लेती। उसने हम सबको बेवकूफ बनाया। कोई सोच भी नहीं सकता कि इतने भोलेभाले चेहरे के पीछे इतनी खौफनाक असलियत होगी।

उस लड़की ने हम सभी के साथ बहुत बड़ा विश्वासघात किया है। हम उसे इतनी बड़ी सजा दिलाएंगे कि वह जिंदगी भर याद रखेगी। तुलसी की मां बोलती है राधा ने बिल्कुल भी अच्छा नहीं करा। बहनजी, हम तो उसे अपनी बेटी समझने लगे थे और वह हमारी ही बेटी की कातिल निकली।

उसने हमारी गुनगुन की मां छीन ली। अब कादंबरी बोलती है अपने आप को संभाले बहन जी। गुनगुन की असली मां तो इस दुनिया से जा चुकी है और जो मुंहबोली मां थी वह भी अब इस घर से जा चुकी है। अब हमें ही मिल करके इस नन्हीं सी जान को पालना है। अब गुनगुन का मामा बोलता वाह क्या खेल रचाया है दामिनी ने एक ही वार में राधा की पूरी जिंदगी बर्बाद कर दी।

अब राधा तो क्या उसकी परछाई भी इस घर में वापस नहीं आ सकती। अब वह ऊपर की तरफ देखता है जहां पर कावेरी और दामिनी खड़ी होती हैं। अब कावेरी दामिनी से बोलती है वह बिटिया आज तो तुम्हारी बलैया लेने का दिल कर रहा है। अगर बदला लेने का कॉम्पिटिशन होता तो पूरी दुनिया में तेरा अव्वल नंबर होता।

इन सब लोगों ने हमारी हालत बहुत खराब की थी ना। आज इन लोगों की यह हालत देखकर हमें तो बहुत मजा आ रहा है। अब दामिनी बोलती है, इनकी तो हालत यह होनी ही थी मम्मा पर सवाल यह है कि मोहन की क्या हालत है? मुझे यह जानना होगा कि exactly के उसके दिमाग में चल क्या रहा है?

सोच क्या रहा है? वह अब कावेरी बोलती है क्या सोच रहा होगा? अपने आपको कमरे में बंद करके, किसी कोने में बैठकर के बिलबिला के रो रहा होगा वह। अरे बिटिया, इस वक्त मोहन के मन में तुलसी के लिए प्यार उमड़ रहा होगा और उस चुड़ैल के लिए प्यार खत्म हो रहा होगा। आज से पहले वो तुलसी को अपना नम्बरवन दुश्मन मानता था ना।

आज के बाद से वह राधा को अपना नंबर वन दुश्मन मानेगा। आज तक वो तुलसी के नाम से चिढ़ता था ना। अब वह  चुड़ैल के नाम से चढ़ेगा। अब दामिनी बोलती है कि नहीं मम्मा, इस बारे में कोई भी कच्चा खेल नहीं खेलने वाली। जब तक मैं अपनी आंखों से देख न लूना तब तक मैं किसी पर भरोसा नहीं करने वाली।

मोहन कब से कमरे में है। जाकर देखना तो पड़ेगा ना कि वह क्या कर रहा है। कहीं ऐसा ना हो कि हम यहां पर खुश हो रहे हैं और वहां पर मोहन राधा के साथ मिलकर कोई नया प्लान बना रहा हो। मम्मा मेरे लिए यह जानना बहुत जरूरी  है कि मोहन के मन में राधा के लिए exactly क्या है?

अब कावेरी बोलती है ये बात कैसे जानेगी तू मोहन ने तो अपने आप को कमरे में बंद कर लिए है न ।दामिनी बोलती है बताती हूं चलो। अब कावेरी और दामिनी अपना समान लेकर के जा रही होती है और मोहन से कहती है की में जा रही हूं मोहन दरवाजा खोलो।

बाहर बैठे  सब लोग दामिनी को देखने लग जाते है दामिनी द्वारा मोहन का दरवाजा खटकती है और कहती मोहन में जा रही हूं में तुमसे आखिरी बार मिलना चाहती हूं प्लीज दरवाजा खोल दो।

दामिनी मोहन का दरवाजा द्वारा खटखटाती है लेकिन कोई दरवाजा नहीं खोलता है।अब दामिनी कावेरी से बोलती है मम्मा में कह रही थी न की मोहन का कोई भरोसा नहीं हो सकता है वो अंदर हो ही न। मोहन देखो में तुमसे आखिरी बार मिलना चाहती हूं पर कोई बात नही तुम मुझ से नही मिलना चाहते हो तो कोई बात नही है। अब दामिनी कावेरी से बोलती है मम्मा जरूर ये मोहन राधा से मिलने गया है।

अब अजीत कादंबरी से बोलता है sasu ma देखिए ना अब सभी लोग मोहन के दरवाजे के और भागते है अब दामिनी कावेरी से बोलती है मैने कहा था ना मम्मा मोहन का कोई भरोसा नहीं गया है राधा के पास। अब कावेरी बोलती है अब क्या करे क्या करे? दामिनी कहती है क्या करना है चलिए अब।

दामिनी जैसे ही पीछे मुड़ती है मोहन दरवाजा खोल देता है तब तक सब घरवाले भी कमरे के बाहर आजा ते है। अब मोहन दामिनी को देखता है और सोचता है राधा से किए हुए वादे को। 

Radha mohan upcoming story देखने को मिलेगा की दामिनी का सच बाहर आता है या नही।

और Pyar ka naam Radha Mohan written update यहीं खत्म हो जाता है।

बस यहीं था Written update of Radha mohan 1 aug 2023

जुड़े रहिये और Pyar ka pehla naam Radha mohan written updates के बारे में जान ने के लिए।

अगर आप radha mohan 1 august 2023 के अलावा Anupama serial update देखते है तो उसका आज का एपीसोड का लिंक दिया हुआ है।

Last Anupama written Updates

Anupama 1 Aug 2023 written update

Anupama 31 july 2023 written update full Episode

Thanks for reading Radha Mohan written episode, Radha mohan serial on indianserialtoday.com

Leave a Comment